सात सुरों से मिलकर बनती  ईश्वर की सुंदर प्रतिमा…!!!

0
2102
सात सुरों से मिलकर बनती
ईश्वर की सुंदर प्रतिमा
हरेक सुर से रोज़ निकलती
एक एक नई चेतना
सा में है भरी सादगी
रे से रेशमी तन है
गा से गायन और नृत्य
मॉ से ममता भरा मन है
सात सुरों….
प से परियों सी चपलता
ध से धरती का धैर्य
नी से निसर्ग की कोमलता
सा से सारे जहाँ का दर्द
सात सुरों …
Written Poem by
Dr. Sangeeta N. Srivastava

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here