Kaisi hai …zindagi…kaisa hai ye jahaa…

0
348

Kaisi hai …zindagi…kaisa hai ye jahaa…
Har taraf hai dhua … Ahahahaha…
Har taraf hai dhua

Hum tumhe… Tum hame..sochte hi rahe….
Pal Khile …pal mite…
reh gaye hain Nishaan…. har taraf hai dhua… Ahahaha..
kaisa hai ye jahaa

दूर है …मंज़िले …दूर है कारवाँ…
दूर होती जाती हैं कश्तियाँ….
हर तरफ़ है धुआँ….
आ हाँ हाँ कैसा है ये जहाँ

हौसले … हिम्मतें …
रात दिन है कहाँ…
गीतो की … साजो की …
आ रही है सदा …
हर तरफ़ है धुआँ आहा आहा ..
कैसा है ये जहाँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here